Friday, February 8, 2013

लोकतंत्र

लघु कथा 
                   
                                  लोकतंत्र      
                                                   
                                                                             पवित्रा अग्रवाल     
             राज्य के सूखा प्रभावित क्षेत्र में सस्ती दरों पर पशु चारे का  वितरण समारोह हो रहा था।उस में जिला अधिकारी मुख्य अतिथि बन कर आए थे,भाषण के दौरान उन्होंने कहा
        --" सरकार राज्य में सूखे की स्थिति से वाकिफ है,आपकी सुविधा के लिए सरकार ने पचास प्रतिशत छूट देकर चारे की व्यवस्था की है, आप लोग उसका लाभ उठायें और पिचहत्तर रुपये क्विन्टल के भाव से चारा खरीदें।'
          सुनते ही किसानो में खुसर- पुसर चालू हो गई ।
          एक किसान खड़ा हो कर बोला --"ये कैसा सस्ता चारा है ?...,इस से कम भाव पर तो खुले बाजार में मिल रहा है ।'
            अधिकारी ने कहा--"यह कैसे हो सकता है,सरकार ने डेढ़ सौ रुपये  के हिसाब से खरीदा है और आपको आधी कीमत पर दिया जा रहा है।'
            दूसरे किसान ने कहा--" हम नहीं मानते.... कहीं कुछ घपला जरूर है।'
        फिर एक आवाज आई--"क्या आप बता सकते हैं सरकार ने यह चारा दुगनी कीमत में कहाँ से खरीदा है,क्या इसका बिल दिखा सकते हैं ?'
        सुनते ही अधिकारी अपना आपा खो बैठा और लात घूसे चलाते हुये चिल्लाया--"यू रास्कल ,बास्टर्ड तुम होते कौन हो हम से हिसाब पूछने वाले ?...लेना है तो चुपचाप लो वरना चले जाओ यहाँ से।'
--
-पवित्रा अग्रवाल
  
    09393385447
 

No comments:

Post a Comment