Monday, November 14, 2011

तूने क्या दिया

लघु कथा                                             

                                            तूने क्या दिया
                                                    
                                                                                      पवित्रा अग्रवाल                                                   
          


               लालची स्वभाव की शगुन अक्सर अपने पति को ताने देती रहती थी ।हमेशा उसके निशाने पर  होते थे उसके ससुराल वाले ।
 पति के घर में घुसते ही बोली -- "आज मेरी सहेली के बेटे का नामकरण संस्कार हुआ है ।पता है उसकी सास ने बच्चे को क्या दिया ?'
 "मैं सुबह का गया अभी आफिस से लौटा हूँ ।यह सब मुझे कैसे पता होगा ?'
 "मैं बता रही हूँ न...उसकी सास ने बच्चे को दो तोले की सोने की चेन दी है ।वह मुझ से पूछ रही थी कि तेरे बेटे के जन्म पर तेरी सास ने क्या दिया था ?'
 "तूने क्या कहा ?'
 "क्या कहती ...दिया तो उन्हों ने एक सोने का छल्ला भी नहीं था पर अपनी इज्जत रखने के लिये झूठ बोलना पड़ा कि उन्होंने भी सोने की चेन दी थी ।'
 "तेरी सहेलियाँ हमेशा यह तो पूछती हैं कि सास ने क्या दिया , नन्द ने क्या दिया ।...कभी यह नहीं पूछती कि तूने अपनी सास और नन्द को क्या क्या दिया ?' 



                                                            _____


 http://bal-kishore.blogspot.com/
  http://laghu-katha.blogspot.com/


                                

2 comments:

  1. इस जब में सब लेना जानते हैं देना नहीं :)

    ReplyDelete
  2. Aap ne shayd sahi kaha hai.danyavad chandra moleshwar ji.

    ReplyDelete