Monday, July 2, 2012

इतना भारी

लघु कथा                             
                                          
                               इतना भारी




                                                                              पवित्रा अग्रवाल




 स्कूल जाते हुए बच्चे की नजर मम्मी द्वारा पढ़े जा रहे समाचार पत्र पर पड़ी । उसने उत्सुकता से उसमें छपे एक चित्र को देख कर अपनी मम्मी से पूछा -- "मम्मी यह हमारे गवर्नर का फोटो है न ?'
 "हाँ '
 "फोटो में ये इतने सारे लोग मिल कर गवर्नर अंकल को क्या दे रहे हैं ?'
 "इन लोगों ने बाढ़ पीड़ितों के लिए एक लाख रुपया जमा किया है,उसी एक लाख रुपए का चैक गर्वनर को दे रहे हैं ।'
 " मम्मी चैक बहुत भारी होता है क्या जो इतने लोगों को मिल कर उठाना पड़ रहा है ?'



                                                           --------


मोबाइल --   09393385447

  http://bal-kishore.blogspot.com/
  http://laghu-katha.blogspot.com/