Wednesday, November 30, 2011

प्यार पर प्रश्न चिन्ह

   लघु कथा        




                      प्यार पर प्रश्न चिन्ह 


                                                                                
                                                                पवित्रा अग्रवाल





 पत्नी ने पति से पूछा ---
 "सुनो तुम कहाँ जा रहे हो ?'
 "माँ के पास, तुम्हें चलना है तो तुम भी चलो ।'
 "ना मुझे तो नहीं जाना पर तुम क्यों जा रहे हो ?'
 "क्यों का क्या मतलब है ।...तुम भी तो अपनी माँ के पास जाती हो ? अपनी माँ से
मिलने का मेरा मन  नहीं करता क्या ?'
 "वह तो आपको जरा भी प्यार नहीं करतीं बल्कि आपकी बुराई ही करती हैं।'
 "किस से करती हैं मेरी बुराई ?'
 "मुझ से भी करती हैं।' 
"तुम भी तो मेरी शिकायत उनसे करती हो... क्या मैं भी तुम्हारे पास आना छोड़ दूँ ?'
 "मैं ने तो तुम्हारी शिकायत कभी उनसे नहीं की ?'
 "उनको छोड़ो अपने बेटे राहुल की शिकायत तुम मुझ से और मेरी शिकायत राहुल से
नहीं करतीं हो ? तो  क्या मैं यह मान लूँ कि तुम हम दोनों को प्यार नहीं करती  ?....क्या
मैं और राहुल भी तुम्हारे पास   आना छोड़ दें ?'
 "तुम तो बात को कहाँ से से कहाँ मोड़ देते हो। बात का बतंगड़ बनाना तो कोइ तुम से
सीखे ।'
 "यह भी मैं ने तुम से ही सीखा है।...माँ से मिलने जाने की बात सुनते ही तुमने उनके
प्यार पर ही प्रश्न   चिन्ह लगा दिया।'




http://bal-kishore.blogspot.com/
  http://laghu-katha.blogspot.com/

Monday, November 14, 2011

तूने क्या दिया

लघु कथा                                             

                                            तूने क्या दिया
                                                    
                                                                                      पवित्रा अग्रवाल                                                   
          


               लालची स्वभाव की शगुन अक्सर अपने पति को ताने देती रहती थी ।हमेशा उसके निशाने पर  होते थे उसके ससुराल वाले ।
 पति के घर में घुसते ही बोली -- "आज मेरी सहेली के बेटे का नामकरण संस्कार हुआ है ।पता है उसकी सास ने बच्चे को क्या दिया ?'
 "मैं सुबह का गया अभी आफिस से लौटा हूँ ।यह सब मुझे कैसे पता होगा ?'
 "मैं बता रही हूँ न...उसकी सास ने बच्चे को दो तोले की सोने की चेन दी है ।वह मुझ से पूछ रही थी कि तेरे बेटे के जन्म पर तेरी सास ने क्या दिया था ?'
 "तूने क्या कहा ?'
 "क्या कहती ...दिया तो उन्हों ने एक सोने का छल्ला भी नहीं था पर अपनी इज्जत रखने के लिये झूठ बोलना पड़ा कि उन्होंने भी सोने की चेन दी थी ।'
 "तेरी सहेलियाँ हमेशा यह तो पूछती हैं कि सास ने क्या दिया , नन्द ने क्या दिया ।...कभी यह नहीं पूछती कि तूने अपनी सास और नन्द को क्या क्या दिया ?' 



                                                            _____


 http://bal-kishore.blogspot.com/
  http://laghu-katha.blogspot.com/