Friday, May 3, 2013

हर्जाना

लघु कथा
       
                          हर्जाना



                                                                       पवित्रा अग्रवाल

 "सुनो अपनी  मुन्नी तो पहले से ही बहुत बीमार थी ...डाक्टर भी जवाब दे चुके  थे ।मर गई तो तुम ने   डाक्टरों से मार पीट क्यों की ?....अब चले गए न वो हड़ताल पर ।'
 "हमारी मुन्नी तो चली गई अब उनके हड़ताल पर जाने या न जाने से  हमें क्या फरक पड़ता है ?'
 "पर दूसरे मरीजों को फरक पड़ता है । इलाज न हो पाने से मरने वालों की संख्या कितनी बढ़ जाएगी  इसका तुम्हें अंदाजा है ?'
 "अरी चुप्प ,तूने दुनिया भर का ठेका ले रखा है क्या ?..डाक्टरों  पर लापरवाही का इल्जाम लगा के  मारपीट करने से हो सकता है हमें कुछ हर्जाना मिल जाए।''

                                                
                                     ------

-पवित्रा अग्रवाल
 मेरे ब्लोग्स --