Wednesday, November 30, 2011

प्यार पर प्रश्न चिन्ह

   लघु कथा        




                      प्यार पर प्रश्न चिन्ह 


                                                                                
                                                                पवित्रा अग्रवाल





 पत्नी ने पति से पूछा ---
 "सुनो तुम कहाँ जा रहे हो ?'
 "माँ के पास, तुम्हें चलना है तो तुम भी चलो ।'
 "ना मुझे तो नहीं जाना पर तुम क्यों जा रहे हो ?'
 "क्यों का क्या मतलब है ।...तुम भी तो अपनी माँ के पास जाती हो ? अपनी माँ से
मिलने का मेरा मन  नहीं करता क्या ?'
 "वह तो आपको जरा भी प्यार नहीं करतीं बल्कि आपकी बुराई ही करती हैं।'
 "किस से करती हैं मेरी बुराई ?'
 "मुझ से भी करती हैं।' 
"तुम भी तो मेरी शिकायत उनसे करती हो... क्या मैं भी तुम्हारे पास आना छोड़ दूँ ?'
 "मैं ने तो तुम्हारी शिकायत कभी उनसे नहीं की ?'
 "उनको छोड़ो अपने बेटे राहुल की शिकायत तुम मुझ से और मेरी शिकायत राहुल से
नहीं करतीं हो ? तो  क्या मैं यह मान लूँ कि तुम हम दोनों को प्यार नहीं करती  ?....क्या
मैं और राहुल भी तुम्हारे पास   आना छोड़ दें ?'
 "तुम तो बात को कहाँ से से कहाँ मोड़ देते हो। बात का बतंगड़ बनाना तो कोइ तुम से
सीखे ।'
 "यह भी मैं ने तुम से ही सीखा है।...माँ से मिलने जाने की बात सुनते ही तुमने उनके
प्यार पर ही प्रश्न   चिन्ह लगा दिया।'




http://bal-kishore.blogspot.com/
  http://laghu-katha.blogspot.com/

Monday, November 14, 2011

तूने क्या दिया

लघु कथा                                             

                                            तूने क्या दिया
                                                    
                                                                                      पवित्रा अग्रवाल                                                   
          


               लालची स्वभाव की शगुन अक्सर अपने पति को ताने देती रहती थी ।हमेशा उसके निशाने पर  होते थे उसके ससुराल वाले ।
 पति के घर में घुसते ही बोली -- "आज मेरी सहेली के बेटे का नामकरण संस्कार हुआ है ।पता है उसकी सास ने बच्चे को क्या दिया ?'
 "मैं सुबह का गया अभी आफिस से लौटा हूँ ।यह सब मुझे कैसे पता होगा ?'
 "मैं बता रही हूँ न...उसकी सास ने बच्चे को दो तोले की सोने की चेन दी है ।वह मुझ से पूछ रही थी कि तेरे बेटे के जन्म पर तेरी सास ने क्या दिया था ?'
 "तूने क्या कहा ?'
 "क्या कहती ...दिया तो उन्हों ने एक सोने का छल्ला भी नहीं था पर अपनी इज्जत रखने के लिये झूठ बोलना पड़ा कि उन्होंने भी सोने की चेन दी थी ।'
 "तेरी सहेलियाँ हमेशा यह तो पूछती हैं कि सास ने क्या दिया , नन्द ने क्या दिया ।...कभी यह नहीं पूछती कि तूने अपनी सास और नन्द को क्या क्या दिया ?' 



                                                            _____


 http://bal-kishore.blogspot.com/
  http://laghu-katha.blogspot.com/


                                

Wednesday, October 19, 2011

बेचारा रावण

 लघु कथा     

                          बेचारा रावण  
                                                                                       पवित्रा अग्रवाल


  
       रमन ने पूछा --"मम्मी दशहरे के दिन रावण को क्यो जलाते हैं ?'
        "बेटा रावण बहुत खराब था। उसने भगवान राम की पत्नी सीता का धोखे से अपहरण कर लिया था  । सीता को वापस लेने के लिये राम को रावण से युद्ध करना पड़ा और युद्ध में रावण मारा गया था ।'
        "यह सब तो मुझे मालुम है कि राम ने रावण को मार का सीता को उस के चंगुल से मुक्त कराया था  पर हर साल दशहरे पर नकली रावण बना कर उसे जलाने से क्या फायदा है ?'
       "फायदा यह है कि इस बहाने लोगों को याद रहे कि बुरे काम का नतीजा भी बुरा ही होता है।इस से लोगों को सीख मिलती है कि वे बुरे काम न करें ।'
       "लेकिन मम्मी इस युग के दुष्टों की तुलना में रावण उतना बुरा नहीं था। रावण ने सीता से कोई जबर्दस्ती नहीं की थी  ...पर अब तो चारों तरफ राक्षसों  की भरमार है । और ये राक्षस इतने ताकतवर हैं कि मासूमों का अपहरण ,बलात्कार और फिर हत्या  करने के बाद भी सजा से बच जाते हैं पर हम अब भी  हर साल बेचारे रावण को ही जलाते रहते हैं ।'

                                

                                                                    ____

 http://bal-kishore.blogspot.com/
  http://laghu-katha.blogspot.com/

Saturday, September 24, 2011

उलझन

लघु कथा

                                                             उलझन       

                                                                                            पवित्रा अग्रवाल

  प्रश्न पत्र पढ़ते हुए माँ ने बेटी से पूछा --"पिंकी प्रश्न है हमारी राष्ट्र भाषा कौन सी है, तुमने क्या    लिखा ?'
 "मम्मी मेरी बेवकूफी से यह सवाल गलत हो गया । मुझे हिन्दी लिखना  चाहिए था  पर मैं अंग्रेजी लिख  आई । '
 "क्या तुम्हें नहीं पता था ?'
 "पता था माँ पर उत्तर लिखते समय दो दिन पहले की एक बात याद आ गई और मैं उलझन में   पड़    गई ।'
 "दो दिन पहले ऐसा क्या हुआ था ?''
 "मैं ने आपको बताया तो था माँ ।हमारे स्कूल में हिन्दी में बात करना बिल्कुल मना है।मुझे कक्षा में  हिन्दी में बात करते देख कर टीचर ने मुझे बेंन्च पर खड़ा कर दिया था ।...यह बात याद आते ही मैं     ने सोचा यदि हमारी राष्ट्र भाषा हिन्दी होती तो उसके बोलने पर मुझे सजा क्यों मिलती ?....बस यहीं मुझ से  गल्ती  हो गई । ''

                                                                -----

Friday, August 19, 2011

चित भी उनकी और पट भी

लघु कथा                                     
     
                               चित भी उनकी और पट भी

                                                                                                                 पवित्रा अग्रवाल
     

     र पंहुचते ही पत्नी ने पूछा -- " सुनो शास्त्री जी के पास हो आए ?''
     "हाँ ''
  "आपने बताया कि उनके हिसाब से बनवाए  इस नए मकान में रहते हुए करीब दो वर्ष हो गए हैं पर परेशानियां रूप बदल बदल कर आ रही हैं, हम सुखी नहीं हैं ।... इस से ज्यादा सुखी तो हम पहले के मकान में थे जिसमें उन्हों ने वास्तु के हिसाब से बहुत से दोष गिना दिए थे।"
 "हाँ मैं ने सब बताया कि इस घर में आने के बाद छोटे बेटे की नौकरी चली गई ।बड़ी बहू का एबोर्शन हो गया।...घर में अशान्ति रहने लगी है ...मेरा व्यापार भी अच्छा नहीं चल रहा है ,घर के खर्चे भी नहीं निकल रहे हैं।''
 "क्या कहा उन्होंने ?''
 "अब क्या कहेंगे ....इन लोगों के पास हर बात का जवाब होता है...कहने लगे -- "देखिए मैं ने आपका घर पूरी तरह से वास्तु के हिसाब से बनवाया है पर आपके पड़ौस के वास्तु का,आपके काम करने की जगह के वास्तु का भी जीवन पर प्रभाव पड़ता है...यह सब परेशानियां उसी की वजह से आ रही हैं।''
 मैं ने कहा -- "शास्त्री जी इस घर के सिवाय कुछ भी नहीं बदला है।मेरा व्यापार, बच्चों का आफिस सब पुरानी जगहों पर ही है।''
 रूखे स्वर में चिढ़ कर बोले --" तो आपके पड़ौस का वास्तु प्रभावित कर रहा होगा ...उसे मैं कैसे रोक सकता हूँ।''

                                                                                  


Monday, July 25, 2011

एक और फतवा

लघु कथा                                                           एक और फतवा

                                                                                                            पवित्रा अग्रवाल


 "फरजाना ,योगा को चलोगी ?'
 "क्यों नहीं।'
 "अरे कुछ दिन पहले ही तो टीवी पर आ रहा था कि योगा के खिलाफ भी फतवा जारी किया गया  है।' ।
 "हाँ किया है किन्तु साथ मे यह भी कहा है कि योगा के वर्जिश वाले भाग से उन्हें एतराज नहीं है पर  ओम या इसी तरह के श्लोकों पर उन्हें आपत्ति है।'
 "लेकिन योगा सेंन्टर में हम पर  कोई भी मंत्र या ओम बोलने को दबाव तो डालता नहीं है। जिसका  मन है बोलो, नहीं मन है तो मत बोलो ।न कोई हमें बुलाने आता हैं ।हमें उसमें फायदा नजर आता  है तो जाते हैं।साथ ही उसकी कोई फीस भी नहीं देनी पड़ती ।यह लोग तो बस ऐसे ही फतवे जारी  करते रहते हैं।'
 "हाँ तुम ठीक कह रही हो। कल को हो सकता है एक और फतवा जारी हो जाए कि जिन लोगों के  नाम भगवानों के नाम  पर हैं जैसे राम,श्याम, उमा ,पार्वती उन्हें नाम से भी मत पुकारो ।'
 "बिल्कुल हो सकता है ।'

  पवित्रा अग्रवाल   http://laghu-katha.blogspot.com/

Sunday, June 26, 2011

जुगाड़

लघु कथा
                                                                  जुगाड़   
                                                                                                                  पवित्रा  अग्रवाल
     क स्तंभ लेखक से पाठक ने पूछा   "अपने स्तंभ में आप किसी न किसी व्यक्ति पर कीचड़ क्यों उछालते रहते है ? लोगों का कहना है कि जिससे आपकी नहीं पटती  या जो आपको महत्त्व नहीं देते  ,आप उनके खिलाफ लिख कर बदला लेते हैं ....अब मुझे भी ऐसा लगने लगा है ,.क्या यह सही है ? "
     "नहीं ऐसा तो नहीं है पर आप को ऐसा क्यों लगा ? "
    "पिछले दिनों आपने लिखा था कि समाज सेवी कृपा शंकर जी समाज सेवा का ढ़ोंग करते  हैं ,काम थोड़ा करते है पर बढ़ा चढ़ा कर प्रचार करते हैं  ." 
   "मैंने जो लिखा था वह गलत नहीं है ."
   "वह समाज सेवा के लिए कई बार पुरस्कृत हो चुके हैं  .कई पत्रिकाओं में उनके साक्षात्कार  भी प्रकाशित हुए हैं  फिर उनको तो मैं  व्यक्तिगत  रूप  से भी जनता हूँ ,वह एक नेक  इन्सान हैं ."
     "आप भी क्या बात करते हैं ....कुछ लोग बड़े जुगाडू होते हैं .वैसे भी आज पैसे  से  बहुत कुछ ख़रीदा जा सकता है ....फिर अपनी तारीफ मै कुछ छपवाना तो और भी आसान है ."
      ' वह कैसे ? "
    " दारू पिला कर और मुर्गा खिला कर कुछ भी लिखवा  लो ."
   " ओ....लगता है उन्होंने आप को कुछ भी नहीं खिलाया पिलाया ."

पवित्रा अग्रवाल

Tuesday, May 24, 2011

बेइमान कौन ?


                                                   बेइमान कौन ?
                                                                                                    पवित्रा अग्रवाल
    
      मैं ने आटो वाले से कहा-"बाबू ,चार मीनार चलोगे ?'
     "हौ,चलता पर पेंतीस रुपये लगते ।'
      "पर मीटर से तो पच्चीस रुपये होते हैं।'
      "मीटर से तीस के आस-पास आते ,आज कल क्या सस्ता है ?...पेट्राल के दामां रोज बढ़ रए,         पॉच रुपये ही तो   बढ़ के पूंछरा न अम्मा।'
   "मीटर से चलना है तो चलो'
   "नको मॉ।
    दूसरे .तीसरे आटो वाले से पूछा किन्तु लगा जैसे सबने एका कर रखा है कि मीटर से नही जायेंगे और पेंतीस   रुपये ही लेंगे। मेरे साथ चल रही मेरी बिटिया का धैर्य समाप्त होने लगा था-"क्या   मम्मी,इतनी तेज धूप है,पांच रुपये में क्या फरक पड़ जायेगा...दे दो न पेंतीस रुपये ...'
        " बेटा बात पांच-दस रुपयो की नही है,इन लोगो ने लूट मचा रखी है।... बेइमान कही के,मीटर होते हुये भी सौदेबाजी करते हैं....आखिर मीटर किस लिये लगा रखे है.'
  तभी एक आटो वाले ने रुक कर पूछा-"अम्मा कही जाना है क्या ?'
       "हां चारमीनार जाना है।'
   उसने बिना किसी हुज्जत के मीटर डालते हुये कहा-"बैठो अम्मा।'
     आटो मे बैठते हुये मै ने एक सफलता भरी मुस्कान से बिटिया को देखा... मन मे एक संतोष भी था कि मैं ने आटो वालों की गैर- वाजिव मांग को नही माना।
      चारमीनार पहुंच कर पैसे देने के लिये मीटर देखा तो सैंतीस रुपये आये थे यानि कि इन महाशय ने मीटर सैट कर रखा था।
  बिटिया ने मुस्करा कर मेरी तरफ देखते हुये आटो वाले को रुपये दे दिये और पूछा-"अब बताइये मम्मी बेइमान कौन था वे या ये ?'
                                                                 
                                                                             -----
                      

Wednesday, April 27, 2011

शुभ अशुभ

                                           शुभ अशुभ
                                                                                      पवित्रा अग्रवाल

     "मां अपने घर इतनी सारी आंटी क्यों आई थीं....इनके घर में शादी है क्या ?" --पॉँच छह वर्षीय पुत्र ने पूछा
  "नहीं बेटा शादी नहीं है .इनके दादा जी की तेरहवीं है ,उसका न्योता देने आई थीं ."
   "तेरहवीं क्या होता है मां ?"
    "जब कोई मर जाता है तो उसके मरने के तेरहवें दिन घर मै पूजा पाठ होता है .पंडितों को दान दक्षिणा दी जाती है .उन्हे और जाति बिरादरी वालों  को खाना खिलाया जाता है ,इसे तेरहवीं कहते है ."
    बच्चे ने उत्साह से पूछा -"इसका मतलब जब कोई मर जाता है तो दावत होती है ?...फिर तो उस दिन घर मै लड्डू ,पूड़ी ,कचौडी  भी बनते होंगे ?...अपने घर ऐसी दावत कब होगी मां ?"
    मां ने मुंह बिचका कर खाट पर बीमार पड़ी सास की ओर इशारा कर के कहा --"ये मरेगी तब ."
     बच्चा चहका --"जब दादी मरेगी तो अपने यहाँ भी दावत होगी ?"
     "हाँ ."
     बच्चे ने बीमार पिता को देख कर पूंछा --"पापा मरेगे तब भी दावत होगी ?"
     तडाक से एक चांटा बच्चे के गाल पर पड़ा --"करमजले अशुभ बात मुंह से निकालता है ."
     बच्चा रोने लगा था.वह नहीं समझ पाया कि उसकी गलती क्या है ...दादी के मरने कि बात शुभ और पिता के मरने कि बात अशुभ कैसे हो गई ?
                                                                  ___

 पवित्रा अग्रवाल
http://bal-kishore.blogspot.com/
http://laghu-katha.blogspot.com/

Sunday, March 6, 2011

करेला नीम चढ़ा

                                           करेला नीम चढ़ा
                                                                                                             पवित्रा अग्रवाल

"किस का फोन था सोनाली?'
 "लखनऊ से मम्मी का था।कल घर पहुँचने को कहा है।'
 "क्या कोइ खास बात है... वहाँ सब ठीक तो है ?'
 " हाँ सब ठीक है।कहीं शादी की बात चल रही होगी...मुझे कोइ देखने आने वाला है...इसी लिये बुलाया है।'
  " लड़का क्या करता है?
  "पता नही।..मुझे यह देखने-दिखाने का सिलसिला बहुत खराब लगता है...              
  दो दिन बाद सोनाली के लौटने पर महिमा ने पूछा -"देखना दिखाना हो गया...लड़का क्या करता       ?'
  "पुलिस मे है .... मुझे तो पुलिस वालो से बहुत डर लगता है...रोज उनके नये नये कारनामें पेपर मे पढ़ लो।'
  महिमा ने छेड़ा-"सैयाँ भये कोतवाल तो डर काहे का ?...पिता क्या करते हैं ?'
  "विधायक है'
" "यह तो सोने मे सुहागा हो गया।...बात पक्की हो गयी ?'
  "अभी नहीं वह लोग घर जाकर जवाब देंगे। भगवान करे वहाँ से ना आजाये...मैं इनकार करूँगी तो मम्मी - पापा को अच्छा नहीं लगेगा क्यो कि उन्हें यह रिश्ता पसन्द है'
 "तुझे यह रिश्ता पसन्द क्यो नही है ?'
  "एक तो करेला वो भी नीम चढ़ा'
  "तू एसा क्यो कह रही है ?'
 "तो और क्या कहूँ ?..लड़का पुलिस मे है और उसका पिता पौलिटिक्स में।'            
                                                              
-पवित्रा अग्रवाल

http://bal-kishore.blogspot.com/
http://laghu-katha.blogspot.com/
      

Sunday, February 13, 2011

संस्था

लघु कथा          संस्था          -पवित्रा अग्रवाल

 शहर की छह-सात साहित्यिक संस्थाओं ने मिल कर दिल्ली से आये एक लेखक के सम्मान में साहित्यिक गोष्ठी का आयोजन किया।
 अतिथि लेखक के एक घंटा विलंब से आने के उपरांत भी सभा में आठ-दस लोग ही उपस्थित थे।
 लेखक के साथ आई उनकी पत्नी ने अपनी स्थानीय मित्र से पूछा- "यह सम्मान गोष्ठी कई साहित्यिक संस्थाओं के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित की गई है, मैं तो सोच रही थी काफी लोग होंगे। लेकिन यहॉ तो...'
 मित्र ने बताया - "यहां उपस्थित हर व्यक्ति अपनी बनाई किसी संस्था का अध्यक्ष है। इस तरह हर  आदमी अपने आप में एक संस्था है।'